बच्चों का एक प्रेरणादाई गीत

बच्चों का एक प्रेरणादाई गीत आप सब के लिए (अटैचमेंट खोलें). बच्चों के साथ काम करने वाले सभी साथियों से आग्रह है कि समय निकालकर कभी इस गीत को बच्चों के साथ गा सकते हैं. आपकी सुविधा के लिए गीत के बोल नीचे दिए गए हैं. गीत और संगीत जाने-माने शिक्षाविद श्री आनंद द्विवेदी का है और इसे उनके निर्देशन में चलने वाले स्कूल- आश्रम पर्यावरण विद्यालय, अंजनीसैण (उत्तराखंड) के बच्चों और शिक्षकों ने गाया है.
………………………………………………….
चलो मिटाएं नफरत इस संसार से
मिलजुल कर हम रहना सीखें प्यार से
धरती दबी हुई जुल्मों के भार से
सहमी है इन्सानी अत्याचार से
चलो मिटाएं……
मिलजुल कर….
सदियां बीतीं लड़ना हम छोड़ न पाए
नफरत की मजबूत बेडि़यां तोड़ न पाए
कभी धर्म के, भाषा के, रंग-जाति के
कभी देश के नाम पे खून बहाते आए
सीमाएं हैं धधक रही अहंकार से
टूट रहे हम अपने ही परिवार से
चलो मिटाएं……
मिलजुल कर….
यारो बहुत हो गया नफरत का रस्ता छोड़ें
आओ फिर से घरती के टुकड़ों को जोड़ें
सीमाएं हों प्रेम के पावन संगम
आओ मिलकर आज वक्त की धारा मोड़ें
हम न गुलामी झेलेंगे लाचार से
चलों संवारें धरती मां को प्यार से
चलो मिटाएं……
मिलजुल कर….
(आशुतोष उपाध्‍याय जी के सौजन्‍य से)


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *