नित्यानंद गायेन की तीन कवितायें

20 अगस्त 1981 को शिखरबाली, पश्‍चिम बंगाल में जन्‍में नित्यानंद गायेन की कवितायें और लेख सर्वनाम, अक्षरपर्व,  कृति ओर, समयांतर, समकालीन तीसरी दुनिया, जनसत्ता, हिंदी मिलाप  आदि पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित। उनका काव्‍य संग्रह ‘आपने हिस्से का प्रेम’ भी प्रकाशित हो चुका है। फिलहाल हैदराबाद के एक निजी संस्थान में अध्यापन व स्वतंत्र लेखन। उनकी तीन कवितायें-

आज़ाद कब हुआ मैं ?

15 अगस्त
सन् 1947 से
अबतक
आज़ाद कहाँ हो पाया मैं
अभी तक घिरा हुआ हूँ
भूख-शोषण
और धर्म की गुलामी में
किन्तु सुना है मैंने
कई बार-
हम आज़ाद हो चुके हैं
उन्हें कहते हुए
कुछ तो सच्चाई होगी
उनकी बातों में
वे शायद सच में आज़ाद हैं
तभी तो लूट रहे हैं
जी भर कर
उन्हें लूटने की आज़ादी है
मेरी आज़ादी के नाम पर
मिली है मुझे
गरीबी, शोषण, अशिक्षा
और कुछ आरक्षण का वादा
एक सरकारी कागज़ पर
उन्हें मालूम था
मुझे पढना नही आता .

वह खोद रहा है जमीन

पिछले कई वर्षों से
या कहिये सदियों से
वह खोद रहा है ज़मीन
इस उम्मीद से कि-
एक दिन निकलेगा पानी
और वह बोयेगा धान अपने छोटे से खेत में
और बचा लेगा
अपने परिवार को
भूख से
अचानक एकदिन
चीख उठी धरती-
मुझे माफ़ कर देना मेरे पुत्र
अब कुछ नहीं बचा मेरे गर्भ में
मैं लूट चुकी हूँ
सब कुछ बिक चुका है मेरा
अब मैं खुद प्यासी हूँ

मेरा बजूद

मैं नही चाहता
मरने के बाद
अपनी चर्चा तुम्हारी
किसी महफिल में
जीते जी थोड़ा मिल जाये
वही बहुत है
आधी उम्र तो
बीत चुकी  है
जीने की  लड़ाई में
बस मान लो इतना
कि मैं भी इन्सान हूँ
यही बहुत है
यही मेरा वज़ूद है

40 comments on “नित्यानंद गायेन की तीन कवितायें

  1. vignesh says:

    amazing poem

  2. Paramvir Sharma says:

    well mr nityanand

  3. pramod dhital says:

    kya achchhi dil hilanewali kavitayen likhi hai aapne.dhanyavad gayen jee.

  4. Priyank says:

    Nityanad Gyanen ji – App ki kabityon or lekh ko padh kar mai stabd reh jaata hoon ki itni choti umar mai koi bhala kaise aise lekh likh sakta hai. Appki kabitayon mai ek haquiqat si beyan hoti hai. Naye daur ke is kabi ko mera sath sath naman…………..Priyank

  5. mahesh punetha says:

    nityand ki kavitayen hamesha jan se judakar vistar pati hain.unaki chintaon main hamesha ve log rahate hain jo shoshit-utpidit hote hain. naye kaviyon main yah svar bahut kam dikhayi deta hai. gayen ki kavitayen padkar sukoon hota hai.
    मेरी आज़ादी के नाम पर
    मिली है मुझे
    गरीबी, शोषण, अशिक्षा
    और कुछ आरक्षण का वादा
    एक सरकारी कागज़ पर…

    आधी उम्र तो
    बीत चुकी है
    जीने की लड़ाई में….
    ek janpaxdhar kavi hi aisi panktiyan likh sakata hai.

  6. सशक्‍त व सार्थक अभि‍व्‍यक्‍ति‍…….’वह खोद रहा है जमीन’ ने ज्‍यादा प्रभावि‍त कि‍या…

  7. dr chiranjeev says:

    nice poems ….. very touching to heart and mind provoking ….very much near to the reality

  8. To an India drunk on a new-found global acceptance and resultant glamor, Nityanand has, in these three poems, voiced the truth that many had begun to ignore: that the majority of India are still unbelievably poor and incapacitated; that basic necessities like even water and food are completely unavailable to crores of Indians; that the fields of force driven by the powers that be conjoin with rampant greed and bureaucracy to ensure that the poor stay poor and the rich get richer; that these are our truths, and that, regardless of how out of fashion these concerns may sound, they are very real, very present, and very potent dangers that threaten — and have successfully ruined — the fragile upwardly-mobile aspirations of many a third-world country across the world. Simultaneously global, local, multichronous, touching, and true … this is awesome work. Very.

  9. Sushil Vihaan says:

    Nice very nice…

  10. Piyush says:

    yeh teeno kavitaen dil hila dene wali hain. pehle to azadi jo mili nai uske baare mein ek dum sahi kha apne.. doosre mein insaani rakshas jo hum sab hai ka ehsaas hota hai… very well written sir…

  11. इन कविताओं को और अधिक गहरे तक विस्‍तारित किया जा सकता है। जीवन के अन्‍य विविध संदर्भों से जोड़ने पर और बेहतर हो सकेंगी। कवि का श्रम बेहतरीन की ओर अग्रसर है।

  12. Santosh says:

    Achi kavityaim hai, nityanad.

  13. vidhu says:

    A nice person nd young poet has written his feeings in words.
    Poems r alwas a part of revolution.

  14. suraj prakash rathore says:

    Aapki tino kavitayen padhi. Tino kavitayen Achchi lagi.pahali kavita aazadi ka mayne khozti hai.kya aazadi abhijatiyo ke ghar ki dasi hai. Kya hamara janam bail banakar jine ,mantri chunne ,dharm parmpara aur pakhand ka mala japate Mar jane ke liye huaa hai. Apne shabdartho ke atirict anekanek prashna khade karti hai.Dusri kavita SAVEDNA se bhari hai. DURDRISTI ki, BHAVISYA ki kavita hai.alakh jagane wali kavita hai.Badi baat kahana aasan hai kintu badi baat puri SAVEDNA ke sath kahana KATHIN hai .sundar aur samyik jwalant mudde par likhi kavita hetu dhanaywad. suraj prakash rathore

  15. nitender says:

    hi nityanand
    yaar bahut achhi kavitayen likhi hai
    good

  16. nitender says:

    nityanand, itni sashakt kavitayen padh kar aur bharat maa ki marmik dasha ko panktibaddh dekh kar mere rongte khade ho gaye hai. well done

  17. nitender says:

    desh ki halat sach me yehi ho gayi hai, apne jo apni kavita ke madhyam se ise ujagar kiya hai , sach me aaj ke yuva hi ise jagjahir karke ise badalne ka beeda utha sakte hain, apka prayas is disha ki or ek kadam hai…….

  18. यह एक सुखद आश्चर्य है कि संपीड़ित गैस की भाँति कविताएं ऊर्जावान हैं। याद रखें जैसे आम का फल खास हो गया है वैसे ही यह आम आदमी आजाद होगा तो खास को स्थान ढूंढना पड़ेगा।

  19. Pushpa Verma says:

    Your poems touch the soul. It shows how deeply you are moved by the reality of the common man.
    I appreciate your ability to express your feelings beautifully.

  20. Rajesh Prabhakar says:

    Bahut khub Gayan ji…bahut acchai kavitae hai.

  21. vijay singh says:

    nityanand khub accha aur jeevan ko chhoo oo khub khub badhai

  22. RajyaBardhan says:

    Nityanand ki kavitaon me ek baichaini hai,shoshito banchito ke prati.

  23. Sanjay Rawat says:

    Ek aur sunder rachna ko sajha karne ke liye me apne Anuj kaa aabhari hun… usey hardik shubh kamnaon ke sath yeh sandesh preshit hai… :-…. :-))

  24. सीधी सच्ची कविताएं जो कवि के मानवीय बोध को इंगित करती हैं। मेरी ढेर सारी शुभकामनाएं…

  25. डा. दिनेश त्रिपाठी 'शम्स ' says:

    नित्यानंद की कवितायें पढीं , सशक्त कवितायें हैं . आजाद कब हुए ? , मेरा वजूद ,वह खोद रहा है जमीन , सभी कवितायेँ सहज व गंभीर हैं . कवि सामाजिक विडंबनाओं पर सवाल करती हैं और संवेदना के तंतुओं को झकझोरती हैं . बस मान लो इतना
    कि मैं भी इन्सान हूँ
    यही बहुत है
    यही मेरा वज़ूद है. कवि की कवितायें मनुष्यता का विमर्श हैं . नित्यानंद को बधाई
    डा. दिनेश त्रिपाठी ‘शम्स’

  26. Poonam sharawat says:

    Apki sabhi poems mein ek sachai he Jo humein sochne ko mujboor kerti he! Kya hum apne desh ko sahi mayne mein azad kerwa paye hein!

  27. Binu says:

    Excellent poems Nityanand. Keep up the good work

  28. Dhruva says:

    Good poems Sir………..

  29. baban pandey says:

    you have a capacity… to describe the real truth… in simple words…or in laguage that can be eaisly …noticble//

  30. dheeraj kumar says:

    मेरी आज़ादी के नाम पर
    मिली है मुझे
    गरीबी, शोषण, अशिक्षा
    और कुछ आरक्षण का वादा
    एक सरकारी कागज़ पर
    उन्हें मालूम था
    मुझे पढना नही आता .

    ye ek talkh haqiqat hai jise aja har koi ukeran se bachta hai, par ek sahas kari aapke sahas ko hum , aapke jazbat ko salam karte hain————–

    अचानक एकदिन
    चीख उठी धरती-
    मुझे माफ़ कर देना मेरे पुत्र
    अब कुछ नहीं बचा मेरे गर्भ में
    मैं लूट चुकी हूँ
    सब कुछ बिक चुका है मेरा
    अब मैं खुद प्यासी हूँ

    ye ek din sach hokar rahega jise aapki kalm ne pahle hi bhanp liya hai,

    आधी उम्र तो
    बीत चुकी है
    जीने की लड़ाई में
    बस मान लो इतना
    कि मैं भी इन्सान हूँ
    यही बहुत है
    यही मेरा वज़ूद है

    is desh me ek bada tabka aise hi kisi halat me ji raha hai bhai jise aapne bakhubi ukera hai apni kalam se.

    main aapki kavita hi nahi aapke jazbat ko salam karta hun , jahan aaj ke daur me sab bhautikwadik chijo ki tarif me lage hain aapne un muddon ko uthaya hai jo insna ki moolbhut jaroorat hai jiske bina insan ek insani zindagi ki kalpna anhai kar sakta hai——–
    aapke jazbat ko naman hai mera kyunki jazambat nahi to kavita nahi——-
    aise hi nirbhik ho likhte rahen aur logo ki aawaz bane

  31. नित्यानंद जी की कवितायेँ समाज के सम्पूर्ण परिमाण को स्पर्श करता है.उनकी कविता का शीर्षक सर्जना “‘आजाद कब हुआ मै?”व्यवस्था के प्रति विद्रोह के रुप में मै नहीं देखता,व्यवस्था के त्रुटी के संदर्भ में देखता हूँ.आजादी का मानवीय बोध है,कविता में ,तभी तो नित्यानंद जी ने ..लिखा है –
    भूख शोषण और धर्म की गुलामी में हम आजाद हो चुके है ?
    व्यवस्था पर गंभीर मानवीय संवेदना को प्रश्नांकित किया है.जो अति सामयिक है.जिसमे व्यवस्थाजन्य कमियों को ध्वनित करते शब्द है!
    गरीबी ,शोषण और अशिक्षा
    और कुछ आरक्षण का वादा
    एक सरकारी कागज पर
    उन्हें मालुम था
    मुझे पढना नहीं आता ।
    अत्यंत गंभीर,समसामयिक प्रश्नों के वृत्त में सम्पूर्ण व्यवस्था है.शासन सत्ता मानवीय संवेदना को समझे त्रुटियों को दूर करते हुए नए मानवतावादी समाज की संकल्पना में सम्पूर्ण ऊर्जा लगायें !
    नित्यानद जी -आपको कवित्व धर्म और सहज अभिव्यक्ति के लिए बधाई ।

  32. vaibhav shukla says:

    simly out standing….

  33. Aap sabhi ka shukriya…….

  34. dharminder says:

    kya baat hai…kaash ye shabad unn par bhi asar karein,jinnke karan ye kavitaayein paida huyi hain..

  35. rekha says:

    well said no doubt we r still dependent bcz our mentality hasn’t got change till now. 65 salo main 65 logo ki hi zindgi bdli h. in this era of upward mobilty everythng is going to b polluted. everyone is trying to get get get but dnt knw wt.

  36. ashok kumar says:

    मेरी आज़ादी के नाम पर
    मिली है मुझे
    गरीबी, शोषण, अशिक्षा
    और कुछ आरक्षण का वादा
    एक सरकारी कागज़ पर
    उन्हें मालूम था
    मुझे पढना नही आता .
    —————-
    unhen padhanaa nahin aata
    to ! kya bhagya vidhata—
    ek aur pralay ke baad janm le maanav !
    Kya gaarnti hai, tub uth khada nahi hoga daanav ?
    kya khinchega nahin, pachi aant ki adhtukadi rotiyan ?
    mujhe nahin lagataa. shoshak shoshan chchodega !
    apne nangapan per uterkar, sansad mein bill todegaaaaaaaaaa

  37. बहुत अच्छी लगी आपकी संवेदनाये । शुक्रिया ।

  38. भयावह यथार्थ के बीच हाशिये में खड़े आम आदमी की संवेदाना इन कविताओ में मेन स्पेस मे हैं …संघर्ष शील चेतना की अपने वजूद के लिए छटपटाहट यहाँ लक्षित की जा सकती है|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *