गांवों में बहार है : प्रेमपाल शर्मा

प्रेमपाल शर्मा

प्रेमपाल शर्मा

हाल ही में दिल्‍ली के एक प्रोफेसर ने फेसबुक पर लिखा कि बाईस साल बाद वे अपने गांव जा रहे हैं। गांव पश्चिमी उत्‍तर प्रदेश का, दि‍ल्‍ली से मात्र साठ-सत्‍तर किलोमीटर दूर। वे बस से जा रहे थे। रास्‍ते के ढाबे, चाय की चुस्कियों के विवरणों से पता चल रहा था कि जैसे आंखों देखा हाल जानने और लिखने के लिए ही उन्‍होंने बस पकड़ी है।

मेरी नजर में बाईस साल कोई बड़ा रिकार्ड नहीं है। रेलवे में काम करने वाले एक अधिकारी ने बताया कि उन्‍हें अपने बदायूं जिले में गांव छोड़े सैंतीस साल हो गये। उनकी सफाई है- ‘क्‍या बताएं… बच्‍चे तैयार होते नहीं हैं। बड़ी बेटी अमेरिका चली गई तो छोटी ने तो दसवीं के बाद ही अमेरिका जाकर पढ़ने का इरादा कर लिया। बेटा पुणे में है। गांव में रखा भी क्‍या है!’

केवल दिल्ली नहीं, यह बात दूर-दूर तक फैली है। खुर्जा के एक बैंक में तैनात मेरे स्कूल के एक साथी ने बताया- ‘गांव मैं नहीं जाता। आखिर क्यों जाएं? वहां ऐसे देखते हैं जैसे कोई दुश्मन हो। वही लड़ाई-झगड़ों के किस्से। मैंने तो अब शादी-विवाह में जाना भी बंद कर दिया है। उनका गांव करोरा खुर्जा से दस कि‍लोमीटर दूर है और यहां हजरत पैदा हुए, पले, बढ़े, पढ़े।

कम से कम पूरे पश्चिमी उत्‍तर प्रदेश की तो यही कहानी है। किसी के भाई ने जमीन हथिया ली तो किसी को पिता के बंटवारे से असंतोष है। कई को जान तक का डर रहता है। एक साथी ने बड़ी संजीदगी से सलाह दी कि ‘यार, तुम जाते तो हो, पर संभल कर जाओ। रात न करना!’ उन्होंने अपना अनुभव बताया कि एक बार सर्दियों की शाम जैसे ही बस से उतरा तो पुलिया पर चार लोग थे। मुझे खुशी हुई कि एक परिचित मिल गया। मैंने उसकी आवाज से पहचान लिया। वह बोला कि भइया, तुम इस वक्त मत आया करो! यानी अगर पहचान में नहीं आता तो मेरा लुटना-पिटना तय था।

यह वही क्षेत्र है जहां छ: महीने पहले बुलंदशहर के पास जी.टी. रोड पर लूटपाट और बलात्‍कार की घटना हुई थी। जिसे इसी उत्‍तर प्रदेश उर्फ उत्‍तम प्रदेश के एक राजनेता और कद्दावर मंत्री ने राजनीतिक दुष्‍प्रचार बताया था। यह अलग बात है कि उन्‍हें ऐसा कहने पर सुप्रीम कोर्ट में स्‍पष्‍ट शब्‍दों में माफी मांगनी पड़ी।

आखिर हालात ऐसे क्यों हुए कि आपको रात के किसी भी पहर अमेरिका में डर नहीं लगता, आस्ट्रेलिया में छूटा हुआ सामान अगले दिन मिल जाता है, लेकिन अपने देश में आप निश्चिंत नहीं हैं। जिस मातृभूमि को स्वर्ग से बढ़ कर बताते हैं, राष्ट्रगान-राष्ट्रगीत पर इतराते हैं, किसी इलाके के चप्पे-चप्पे को जानते-पहचानते भी हैं, वहां जाने में भी डर लगता हैं। अगर कभी जाते हैं तो उसके बारे में ऐसे बताते हैं, जैसे हम बचपन में कप्तान कुक की उत्तरी ध्रुव की विजय यात्रा या मैंगेलन के दक्षिण अफ्रीका में प्रवेश के भयानक दुस्साहस के विवरण बता रहे हों।

वाकई इस असुरक्षा के बीच जो लोग रहते हैं, उनके जीवट का जवाब नहीं। सरकारी स्कूल बिल्कुल चौपट। नए नुक्कड़ अंग्रेजी के धंधा करते स्कूलों में पढ़ाई के नाम पर बस कुछ सर्टिफिकेट दिए जा रहे हैं। इसका नुकसान और ज्यादा है। दरअसल, ऊंची फीस देने के बाद वे और उनके मां-बाप खेती-क्यारी के अपने पारंपरिक काम से भी बचना चाहते हैं। सरकारी स्कूल की सहज हिंदी में शिक्षा उन्हें यथार्थ से इतना दूर नहीं करती थी। नौकरी खासकर सरकारी नौकरी मिलेगी नहीं, कोई काम, व्यवसाय, उद्योग है नहीं, न समाज या सरकार ने कुछ सिखाया, तो आगे क्या हो! इनमें से कुछ ऐसे निकल जाते हैं जो सड़कों पर खड़े अंधेरे का इंतजार करते हैं कि कब कोई आए और ये उसका शिकार करें!

‘हारे को हरिनाम’ के सटीक उदाहरण के रूप में इस निर्वात में अचानक धार्मिकता ने खूब पैर पसारे हैं। जब भी गांव जाता हूं तो पता लगता है कि किसी पूजा का बड़ा आयोजन चल रहा है। चालीस-पचास साल पहले भी लोग पूजा-पाठ करते थे, लेकिन एक-डेढ़ दिन के भीतर खत्म। अब यह हफ्ते या इससे ज्यादा वक्त तक चलता रहता है। आधा गांव इसी में मशगूल रहता है। बाकी रोजमर्रा के कामकाज या तो किनारे होते गए या फिर टलने लगे हैं। धर्म-कर्म के आगे खेतों की परवाह कम होती गई है।

ऐसे में भक्ति का धंधा पूरे जोरों पर है। सामान्य रोजगार भले असंभव जैसे होते जा रहे हों, बनारस से लेकर पटना तक के पंडों-ज्योतिषियों के रोजगार में तेजी है। जाति-विभाजन के दंश और भी अमानवीय शक्ल में सामने आ जाते हैं। काश! धर्म ने समाज में जाति और इससे उपजने वाले विद्वेष को खत्म करने का काम किया होता। एक अच्छी शिक्षा, खेलकूद या दूसरी व्यावसायिक गतिविधियां और प्रशिक्षण इस निर्वात को भर सकते थे। लेकिन बेईमानी और चौबीसों घंटे की धारावाहिक राजनीति ने उसे भी निगल लिया है। गांव अब वे गांव नहीं रहे जिसका सपना महात्मा गांधी देखते थे। बाबा साहब आंबेडकर सचमुच ज्यादा यथार्थवादी थे। वे जाति-व्यवस्था से जकड़न की मुक्ति शहरीकरण में देखते थे। लेकिन शहर के मेरे दिल्ली के अफसर दोस्त गांव वालों और आदिवासियों को दिल्ली की झुग्गियों में भी नहीं देखना चाहते और खुद गांव जाने से भी डरते हैं। बस दूर से गाते रहते हैं- ‘गांव में बहार है!’



6 comments on “गांवों में बहार है : प्रेमपाल शर्मा

  1. Subhash Lakhera says:

    आपका लेख पढ़ा। सही सवाल उठाए हैं आपने। उत्तर प्रदेश हो या उससे छिटका उत्तराखंड, पलायन की त्रासदी सभी के गाँव भोग रहे हैं। इतना जरूर है कि लूटपाट अभी पहाड़ी गाँवों में उतना देखने में नहीं आता।

  2. जिन लोगों की आपबीती का आपने जिक्र किया है वे कमोबेश सही ही हैं । अपनी रेलसेवा के तैंतीस वर्षों के दौरान मैं किसी हिल स्टेशन या समन्दर के किनारे घुमने नहीं गया मेरे लिए मेरा गाँव ही सबसे बड़ा पर्यटन स्थल था । मेरी सारी छुट्टियां गाँव आनेजाने में ही खर्च हुई । एक भ्रम कहें या सपना पल रहा था कि रिटायर होकर सीधे गाँव जाऊंगा और बचे हुए समय का उपयोग करुंगा । लेकिन अब जब रिटायर होकर गाँव आना चाहता हूँ तो परिस्थितियों को देखकर मैं भी डर रहा हूँ । नया गाँवनामा मैला आंचल और रागदरबारी से ज्यादा जटिल हैं । हालांकि हिम्मत नहीं हारा हूँ अभी । लेकिन गूंगे बनकर रहना पड़ा तो न रहना ही बेहतर होगा ।

  3. आपकी ब्लॉग पोस्ट को आज की ब्लॉग बुलेटिन प्रस्तुति ब्लॉग बुलेटिन – आप सभी को लठ्ठमार होली (बरसाना) की हार्दिक बधाई में शामिल किया गया है। सादर … अभिनन्दन।।

  4. J L Singh says:

    गाँव की करुणता बरक़रार है यह झूठ है कि गांवों में बहार है! मैं इसे फेसबुक पर साझा कर रहा हूँ! आदरणीय प्रेमपाल शर्मा जी!

    • प्रेमपाल शर्मा says:

      बहुत बहुत आभार सभी का दोस्तों !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *